​​​​​​​मंत्री डॉ. टेकाम ने तत्परता से कार्य करने के लिए पुलिस टीम को स्मृति चिन्ह प्रदान कर किया सम्मानित

​​​​​​​मंत्री डॉ. टेकाम ने तत्परता से कार्य करने के लिए पुलिस टीम को स्मृति चिन्ह प्रदान कर किया सम्मानित

स्कूल शिक्षा विभाग के कथित फर्जी डायरी कांड का 48 घंटे के भीतर खुलासा करने पर रायपुर पुलिस का सम्मान किया गया है। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने रायपुर पुलिस के एसपी सहित पूरी टीम की सराहना की है। मंत्री डॉ. टेकाम ने आज सिविल लाईन स्थित पुलिस कंट्रोल रूम पहुंचकर फर्जी डायरी कांड का पटाक्षेप करने वाली पुलिस टीम को बधाई देते हुए उनका उत्साहवर्धन किया। उन्होंने तत्परता से इस प्रकरण का पटाक्षेप करने वाली पुलिस टीम को अपनी ओर से एक लाख रूपए की नगद राशि भी प्रदान की। मंत्री डॉ. टेकाम ने इस अवसर पर रायपुर एसपी से पुलिस टीम के अधिकारियों-कर्मचारियों को स्मृति चिन्ह प्रदान कर सम्मानित भी किया। इस अवसर पर रायपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री प्रशांत अग्रवाल भी उपस्थित थे।

गौरतलब है कि रायपुर जिले के थाना राखी में सुनियोजित ढंग से षडयंत्रपूर्वक शिक्षा विभाग के कुछ अधिकारियों एवं शासन की छवि धूमिल करने के उद्देश्य से फर्जी शिकायत पत्र तैयार कर प्रचारित एवं प्रसारित करने की शिकायत की गई थी। इस पर पुलिस ने भारतीय दण्ड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत अपराध पंजीबद्ध किया था। अपराध दर्ज होने के 48 घंटे के भीतर ही जांच करते हुए पुलिस अपराधियों तक पहुंच गई। इस मामले में पूर्व जिला शिक्षा अधिकारी गेंदराम चन्द्राकर सहित अन्य दो आरोपी संजय सिंह ठाकुर और कपिल कुमार देवदास को गिरफ्तार किया है।

स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. टेकाम से सम्मानित होने वाले पुलिस टीम में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर रायपुर श्री तारकेश्वर पटेल, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अपराध रायपुर श्री अभिषेक माहेश्वरी, नगर पुलिस अधीक्षक विधानसभा श्री उदयन बेहार, नगर पुलिस अधीक्षक नवा रायपुर श्री नवनीत पाटिल, निरीक्षक प्रभारी सायबर सेल श्री गिरीश तिवारी, निरीक्षक श्री कृष्ण चंद सिदार, सहायक उपनिरीक्षक श्री गुलाब सिन्हा, सायबर सेल के प्रधान आरक्षक सर्वश्री सरफराज चिश्ती, संदीप दीक्षित, कृपा सिंधु पटेल, राधाकांत पाण्डेय, महेन्द्र राजपूत, मोहम्मद सुल्तान, आरक्षक सर्वश्री प्रमोद बेहरा, संतोष सिन्हा, राजिक खान, रवि तिवारी, वीरेन्द्र भार्गव, विकास क्षत्री, सुरेश देशमुख एवं महिला आरक्षक सुश्री बबीता देवांगन शामिल हैं।