रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की नेतृत्व वाली सरकार के खाते में एक और बड़ी उपलब्धि : छत्तीसगढ़ के स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट को मिली राष्ट्रीय मान्यता

रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की नेतृत्व वाली सरकार के खाते में एक और बड़ी उपलब्धि : छत्तीसगढ़ के स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट को मिली राष्ट्रीय मान्यता

छत्तीसगढ़ में राम वन गमन पथ जैसी महत्वाकांक्षी योजना शुरू करके राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति अर्जित करने वाली मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के नेतृत्व वाली सरकार के खाते में एक और उपलब्धि जुड़ गई है। राज्य निर्माण के बाद पहली बार छत्तीसगढ़ के स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट (आईएचएम) को राष्ट्रीय होटल प्रबंध एवं कैटरिंग टेक्नॉलॉजी परिषद (एनसीएचएमसीटी) ने मान्यता प्रदान कर दी है। इस मान्यता के बाद अब स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट (आईएचएम) के डिग्रीधारियों को देश-विदेश के विभिन्न संस्थानों में मान्यता मिल सकेगी। गौरतलब है कि स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट (आईएचएम) का गठन 2006 में किया गया था।

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल छत्तीसगढ़ को देश के पर्यटन नक्शे में शामिल कराने के लिए प्रयासरत हैं। इसके लिए पर्यटन के क्षेत्र में अनेक योजनाएं शुरू की गई हैं, ताकि पर्यटक छत्तीसगढ़ की तरफ आकर्षित हो सकें। इसी परिप्रेक्ष्य में राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी योजना राम वन गमन पथ के लिए बहुत तेजी से काम किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री बघेल पर्यटन को बढ़ावा देने के साथ-साथ यहां के नौजवानों को इस क्षेत्र में आगे बढ़ाने का प्रयास भी कर रहे हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल तथा पर्यटन मंत्री ताम्रध्वज साहू के निर्देश पर पर्यटन विभाग के सचिव अन्बलगन पी. तथा टूरिज्म बोर्ड की प्रबंध संचालक इफ्फत आरा ने स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट (आईएचएम) को मान्यता दिलाने की पहल की, जिसका सुखद परिणाम सामने आया है। राष्ट्रीय होटल प्रबंध एवं कैटरिंग टेक्नॉलॉजी परिषद (एनसीएचएमसीटी) की स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट (आईएचएम) को दी गई मान्यता शैक्षणिक सत्र 2020-21 से ही लागू हो जाएगी। जिसके तहत अध्यापन कार्य एवं अन्य समस्त प्रक्रिया अंतिम चरण में हैं।

राष्ट्रीय होटल प्रबंध एवं कैटरिंग टेक्नॉलॉजी परिषद (एनसीएचएमसीटी) ने शैक्षणिक सत्र 2020-21 से इन कार्यक्रमों, पाठ्यक्रमों को संचालित करने की अनुमति स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट (आईएचएम) को प्रदान की है। जिसमें बीएससी, हॉस्पिटैलिटी एंड होटल एडमिनिस्ट्रेशन, डिप्लोमा इन फूड प्रॉडक्शन, डिप्लोमा इन फूड एंड बेवरेज सर्विस, डिप्लोमा इन हाउस कीपिंग ऑपरेशन्स, बीएससी पास, स्नातक विद्यार्थियों को प्रतियोगी परीक्षा जेईई में उत्तीर्ण होने के पश्चात, हॉस्पिटैलिटी एंड होटल एडमिनिस्ट्रेशन में प्रवेश हेतु एनसीएचएम द्वारा सेंट्रलाइज्ड काउंसलिंग प्रारंभ कर दी गई है। स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट, उपरवारा, नवा रायपुर को (एनसीएचएमसीटी) काउंसलिंग लिस्ट में शामिल किया गया है। इसके अतिरिक्त 12वीं उत्तीर्ण विद्यार्थियों को डिप्लोमा कोर्स हेतु सीधे प्रवेश की  सुविधा भी उपलब्ध है।

टूरिज्म बोर्ड की प्रबंध संचालक तथा स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट, उपरवारा की प्रिंसिपल इफ्फत आरा ने बताया कि आईएचएम में अक्टूबर के प्रथम सप्ताह से क्लासेस शुरू हो जाएंगी। संस्थान के संचालन के लिए गवर्निंग बॉडी का गठन हो चुका है। इस गवर्निंग बॉडी के चेयरमेन पर्यटन सचिव श्री अन्बलगन पी. ने बताया कि छत्तीसगढ़ में होटल एवं हॉस्पिटिलिटी सेक्टर में मानव संसाधनों की कमी को पूरा करने के लिए रायपुर के स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट (आईएचएम) को मान्यता मिलना एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है। इससे न सिर्फ छत्तीसगढ़ बल्कि आसपास के अन्य राज्यों के हॉस्पिटिलिटी सेक्टर में रुचि रखने वाले विद्यार्थी भी लाभान्वित होंगे।