महासमुंद : सरायपाली में बनेगा अंतर्राज्यीय बस स्टैंड, सरायपाली नगर के लिए नल जल योजना की घोषणा, शिशुपाल पर्वत पर्यटन स्थल के रूप में होगा विकसित

महासमुंद : सरायपाली में बनेगा अंतर्राज्यीय बस स्टैंड, सरायपाली नगर के लिए नल जल योजना की घोषणा, शिशुपाल पर्वत पर्यटन स्थल के रूप में होगा विकसित

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज महासमुंद जिले के सरायपाली विधानसभा क्षेत्र के ग्राम बलौदा में आयोजित भेंट-मुलाकात में ग्रामीणों से पैरादान करने की अपील की। उन्होंने कहा कि प्रदेश में धान कटाई शुरू हो गई है। आप सभी गौठानों में मवेशियों के लिए पैरादान कीजिए ये महादान है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज मैं बलौदा आया हूं, यह देखने के लिए कि लोगों को राज्य शासन की योजनाओं का लाभ मिल रहा है या नहीं। उन्होंने कहा कि जनता के हित में योजनाएं बनाई गई हैं, इनका अधिक से अधिक लाभ उठाएं। इस अवसर पर गृह मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू, संसदीय सचिव श्री विनोद सेवनलाल चंद्राकर, सरायपाली विधायक श्री किस्मत लाल नंद, बसना विधायक श्री देवेन्द्र बहादुर सिंह भी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने भेंट-मुलाकात के दौरान जनप्रतिनिधियों और ग्रामीणों के आग्रह पर क्षेत्र के विकास के लिए अनेक महत्वपूर्ण घोषणाएं की। उन्होंने शिशुपाल पर्वत को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने, बलौदा कॉलेज परिसर में बाउंड्री वॉल के निर्माण, भदरा तालाब के गहरीकरण, बलौदा में ग्रामीण हाट बाजार के उन्नयन, सुरंगी नदी पर एनीकट निर्माण, सरायपाली में अंतरराज्यीय बस स्टैंड के निर्माण, सरायपाली नगर में हर घर में नल जल योजना की स्वीकृति की घोषणा की।

मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कहा कि हाटबाजार क्लीनिक योजना का ज्यादा से ज्यादा लोगों को लाभ लेना चाहिए। इससे बेहतर इलाज होता है और पैसे भी नहीं लगते हैं। मुख्यमंत्री विशेष स्वास्थ्य सहायता योजना से 20 लाख रुपए तक का इलाज करा सकते हैं। उन्होंने कहा कि हमने 2500 रूपए में धान खरीदा लेकिन केंद्र सरकार ने अडंगा लगाया, फिर हमने राजीव गांधी किसान न्याय योजना शुरू की। छत्तीसगढ़ में हर ब्लॉक में दो-दो रुरल इंडस्ट्रियल पार्क बनेंगे। इससे ग्रामीणों को रोज़गार के नए अवसर मिलेंगी। मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों से कर्ज माफी, न्याय योजनाओं, शिक्षा और स्वास्थ्य योजनाओं के क्रियान्वयन की स्थिति की जानकारी ली। इसके पहले मुख्यमंत्री श्री बघेल ने छत्तीसगढ़ महतारी के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम की शुरूआत की।

संतराम का एक लाख रूपए का कर्ज हुआ माफ

भेंट-मुलाकात के दौरान ग्राम तिसड़ी के संतराम अंचल ने बताया कि उनका 1 लाख रूपए का कर्ज माफ हो गया है। न्याय योजना से तीन किस्त में पैसा मिला है, उन्होंने पैसे को खेती में लगाया और बच्चों की पढ़ाई में खर्च किया। रेखा ने मुख्यमंत्री को बताया कि राशनकार्ड बना है। मैं टेंगनापाली में रहती हूं, राशन समय से मिल रहा है। रेखा ने मुख्यमंत्री से गौठान में पानी की सुविधा और फेंसिंग की मांग की। जिसे सुनकर मुख्यमंत्री ने तत्काल बोर कराने की घोषणा की।

देवराज बारिक ने बताया कि 56 क्विंटल गोबर बेचा है और 10 हजार रूपए मिले हैं। इन पैसों को बच्चों की पढ़ाई में खर्च कर रहा हूँ। एक ग्रामीण मायाराम ने अपने इलाज के लिए आ रही समस्या से अवगत कराया, जिसे सुनकर मुख्यमंत्री ने कलेक्टर को इलाज कराने के निर्देश दिए हैं। स्व-सहायता समूह की रुक्मणी ने बताया कि उन्होंने 24 क्विंटल गोबर बेचा है, इससे मिले पैसों को बच्चों की पढ़ाई में लगा रही हैं।

भेंट-मुलाकात में शंकरलाल भोई ने तीसरे बच्चे के जाति प्रमाणपत्र न बन पाने की तकलीफ़ बताई, उन्होंने बताया कि उस रिकॉर्ड से दो बच्चों का बना है लेकिन तीसरे बच्चे का नहीं। इस पर मुख्यमंत्री ने एसडीएम के प्रति नाराजगी जताते हुए कलेक्टर को जांच कर दो दिन में जाति प्रमाणपत्र बनाने के निर्देश दिए। पद्मलोचन रावत ने मुख्यमंत्री को बताया कि पिछड़ा वर्ग का प्रमाण पत्र नहीं मिल रहा है। इस पर मुख्यमंत्री ने जाति प्रमाणपत्र बनवाने के निर्देश अधिकारी को दिए। जय मां दुर्गा महिला स्व-सहायता समूह की ट्विंकल श्रीवास ने बताया कि समूह ने 26 क्विंटल खाद बेचा है।

गलत पट्टा बनने की शिकायत: कलेक्टर को जांच कर कार्रवाई के निर्देश  

भेंट-मुलाकात में यशोबंती साहू ने बताया कि उनके पति की मृत्यु हो चुकी है। उनके जमीन पर लगे धान को एक कोटवार काट ले जाता है, बसना तहसीलदार ने उसका पट्टा बना दिया है। सभी जगह शिकायत कर चुकी हूं। उनकी शिकायत सुनकर मुख्यमंत्री ने कलेक्टर को मामले की जांच करने के निर्देश दिए और कहा कि तहसीलदार गलत है तो निलंबित करें और कोटवार दोषी है तो बर्खास्त करें।

नवनिर्मित बलौदा थाने का लोकार्पण

मुख्यमंत्री ने 01 करोड़ 97 लाख रूपए की लागत से नवनिर्मित बलौदा थाने का लोकार्पण किया। गौरतलब है कि बलौदा पुलिस चौकी पहले सराईपाली थाना के अंतर्गत था। इस चौकी के पुलिस थाना में उन्नयन से आस-पास के 60 गांवों को बेहतर सुरक्षा मिलेगी।