विधानसभा में स्वर्गीय श्री ओम प्रकाश राठिया, स्वर्गीय डॉ. भानुप्रताप गुप्ता, स्वर्गीय श्री लक्ष्मण राम और स्वर्गीय श्री रोशनलाल अग्रवाल को दी गई श्रद्धांजलि

विधानसभा में स्वर्गीय श्री ओम प्रकाश राठिया, स्वर्गीय डॉ. भानुप्रताप गुप्ता, स्वर्गीय श्री लक्ष्मण राम और स्वर्गीय श्री रोशनलाल अग्रवाल को दी गई श्रद्धांजलि

छत्तीसगढ़ विधानसभा में आज छत्तीसगढ़ शासन के पूर्व संसदीय सचिव श्री ओम प्रकाश राठिया, अविभाजित मध्यप्रदेश शासन के पूर्व राज्य मंत्री डॉ. भानुप्रताप गुप्ता, अविभाजित मध्यप्रदेश शासन के पूर्व संसदीय सचिव श्री लक्ष्मण राम और छत्तीसगढ़ विधानसभा के पूर्व सदस्य श्री रोशनलाल अग्रवाल को श्रद्धांजलि दी गई। विधानसभा की कार्यवाही शुरू होते ही विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने इन दिवंगत विभूतियों का जीवन परिचय देते हुए इनके व्यक्तित्व और कृतित्व पर प्रकाश डाला। सदन में दो मिनट का मौन रखकर इन दिवंगतों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई।

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने स्वर्गीय श्री रोशनलाल अग्रवाल को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि श्री रोशनलाल अग्रवाल को हम सबने बहुत संघर्ष करते और राजनीति में एक-एक सीढ़ी चढ़ते देखा है। वे वर्ष 2013 में रायगढ़ विधानसभा क्षेत्र से चुनकर आए और 2018 तक विधायक रहे। वे काफी मिलनसार और आमजनता के बीच लोकप्रिय थे। स्वर्गीय श्री ओम प्रकाश राठिया को श्रद्धांजलि देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि श्री ओम प्रकाश राठिया धरमजयगढ़ विधानसभा क्षेत्र से दो बार विधायक चुने गए थे।

छत्तीसगढ़ शासन में वे संसदीय सचिव रहे। कम आयु में उनका निधन दुखद है। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने अविभाजित मध्यप्रदेश शासन के पूर्व संसदीय सचिव श्री लक्ष्मण राम को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि वे जशपुर अंचल के कद्दावर नेता और आदिवासी समाज की आवाज थे। श्री लक्ष्मण राम जी बगीचा विधानसभा क्षेत्र से अविभाजित मध्यप्रदेश विधानसभा के लिए चुने गए थे।

वे अपने क्षेत्र में विकास कार्यों के लिए बेहद सजग थे। उन्हें ईब व्यपवर्तन, नारायणपुर ब्रिज, चराईडांग बगीचा रोड, नहर निर्माण, नारायणपुर में बिजली पहुंचाने के लिए याद किया जाता है। वे जीवन के अंतिम क्षण तक जनता की सेवा के लिए समर्पित रहे। उनके निधन से एक युग का अंत हो गया। स्वर्गीय डॉ. भानुप्रताप गुप्ता को श्रद्धांजलि देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि डॉ. भानुप्रताप गुप्ता को जनसेवा के अपने अध्यावसाय के सर्वोच्च शिखर तक जाने का अवसर मिला। उन्होंने इसे सार्थक भी किया। एक चिकित्सक और जनप्रतिनिधि के रूप में वे निःस्वार्थ सेवा के माध्यम से लोगों के बीच लोकप्रिय हुए।

अविभाजित मध्यप्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री के रूप में भी उन्होंने कार्य किया। मुख्यमंत्री ने इन चारों दिवंगतों के शोकाकुल परिवारजनों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुए उनकी आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की। नेता प्रतिपक्ष श्री धरमलाल कौशिक, विधायक श्री धर्मजीत सिंह, श्री नारायण चंदेल, श्री पुन्नूलाल मोहले, श्री केशवचंद्रा और श्री शिवरतन शर्मा ने भी सदन में दिवंगतों को श्रद्धांजलि अर्पित की।

Leave a Reply