रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बलरामपुर-रामानुजगंज जिले में 247 करोड़ के विकास कार्यों का किया लोकार्पण एवं शिलान्यास

रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बलरामपुर-रामानुजगंज जिले में 247 करोड़ के विकास कार्यों का किया लोकार्पण एवं शिलान्यास

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के प्रवास के दौरान जिला मुख्यालय बलरामपुर के हाईस्कूल ग्राउण्ड में आयोजित कार्यक्रम में जिले को 247 करोड़ 61 लाख रूपये के विकास कार्यों की सौगात दी। श्री बघेल इनमें से 87 करोड़ 32 लाख रूपए की लागत के 29 निर्माण कार्यों का लोकार्पण और 160 करोड़ 29 लाख रूपए की लागत के 66 कार्यों का भूमि-पूजन और शिलान्यास किया।

इस अवसर पर पंचायत एवं ग्रामीण विकास, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री टी.एस.सिंहदेव, उच्च शिक्षा एवं तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास एवं जनशक्ति नियोजन, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा खेल एवं युवा कल्याण एवं जिले के प्रभारी मंत्री श्री उमेश पटेल, आदिम जाति कल्याण, स्कूल शिक्षा एवं सहकारिता मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति, आर्थिक सांख्यिकी एवं संस्कृति मंत्री श्री अमरजीत भगत, संसदीय सचिव एवं विधायक श्री चिन्तामणी महाराज, सरगुजा विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष एवं रामानुजगंज विधायक श्री बृहस्पत सिंह, सरगुजा संभाग के आयुक्त सुश्री जेनेविवा किण्डो, पुलिस महानिरीक्षक श्री रतनलाल डांगी, कलेक्टर श्री श्याम धावडे़, पुलिस अधीक्षक श्री रामकृष्ण साहू, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री हरीष एस. उपस्थित थे।

सरगुजा संभाग के विकास में कोई भी कमी नहीं आएगी: मुख्यमंत्री श्री बघेल

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने जिला मुख्यालय बलरामपुर के हाईस्कूल मैदान में आयोजित सभा में उपस्थित जनसमुदाय को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार जनता के हित में काम करने के लिए संकल्पित है। सरकार की योजनाएं गांव, गरीब, किसानों, बुजुर्ग महिलाओं सहित सभी वर्गों के लोगों के हितों को ध्यान में रखकर बन रही है। उन्होंने कहा कि विकास की इकाई व्यक्ति है, एक-एक व्यक्ति को योजना का लाभ दिलाना है। प्रदेश में मनरेगा से उत्कृष्ट कार्य हो रहे हैं, कोरोना काल में भी लोगों को रोजगार मिला। छत्तीसगढ़ का पूरे देश में आकांक्षी जिले में प्रथम स्थान है। हाट-बाजार क्लीनिक योजना तथा शहरी स्वास्थ्य स्लम योजना का लाभ अब आसानी से जरूरतमंदों को मिलने लगा है। प्रदेश सरकार ने कोरोना काल में सबके घरों में तीन माह का निःशुल्क राशन पहुंचाया है।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि अंग्रेजी माध्यम स्कूल खुलने से अब निम्न आय वर्ग तथा गरीबों के बच्चों को भी निजी स्कूलों को तर्ज पर अच्छी शिक्षा प्राप्त होगी तथा बड़ी प्रतिस्पर्धा में भाग ले सकेंगे। आगामी एक वर्ष में प्रदेश के सभी विकासखण्डों में अंग्रेजी माध्यम स्कूल खोले जाएंगे, जिससे सभी क्षेत्र के लोगों को लाभ होगा। उन्होंने कहा कि देश में छत्तीसगढ़ ही एकमात्र ऐसा राज्य है जहां गोधन न्याय योजना के तहत् गोबर की खरीदी की जा रही है। गोबर से वर्मी कम्पोस्ट बनाकर खेतों में उपयोग करने से जमीन की उर्वरा शक्ति में बढ़ोतरी के साथ ही उत्पादन में भी बढ़ोतरी होगी तथा पर्यावरण के अनुकूल होगा।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने सभास्थल में शहरी एवं ग्रामीण आजीविका मिशन, कृषि, उद्यान, मछली, खाद्य, महिला एवं बाल विकास, स्वास्थ्य विभाग, शिक्षा विभाग सहित अन्य विभागों के स्टॉल का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने जिला चिकित्सालय हेतु एक ए.एल.एस. एम्बुलेंस तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कुसमी, रामानुजगंज तथा 100 बिस्तरीय अस्पताल वाड्रफनगर हेतु एक-एक बी.एल.एस. एम्बुलेंस को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया।

कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने स्थानीय जनप्रतिनिधियों द्वारा मांग रखे जाने पर चांदो, रघुनाथनगर एवं डौरा-कोचली को तहसील तथा बरियों को उप तहसील, बलरामपुर में उद्यानिकी महाविद्यालय, जिला चिकित्सालय बलरामपुर में 10 आईसीयू बेड एवं डायलिसीस की व्यवस्था, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र रामानुजगंज की 30 बिस्तरीय को 100 बिस्तरीय, बलरामपुर में केन्द्रीय सहकारी बैंक खोलने, सेमरसोत अभ्यारण क्षेत्र के वनग्रामों में वनोपज खरीदी केन्द्र खोलने, तातापानी, रनहत में पुलिस चौकी, चनान व्यपवर्तन एवं गिरवानी का नवीनीकरण एवं विस्तार, चांदो-सामरी मार्ग में कंठी घाट का निर्माण कार्य को पूर्ण कराने की घोषणा की।

शिक्षा के विस्तार से प्रदेश के छात्र प्रतिस्पर्धाओं में अपनी परचम लहरायेंगे: डॉ. टेकाम
स्कूल शिक्षा, आदिम जाति कल्याण एवं सहकारिता मंत्री डॉ0 प्रेमसाय सिंह टेकाम ने जनसमुदाय को संबोधित करते हुए कहा कि यहां के छात्र अच्छी और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मिलने से प्रतिस्पर्धाओं में भाग लेकर अपनी क्षमता का उत्कृष्ट प्रदर्शन कर सकेंगे। उन्होंने लॉकडाउन की अवधि में शिक्षा विभाग द्वारा संचालित नवाचार बुलठू के बोल, मोहल्ला क्लास तथा पढ़ई तुंहर दुआर जैसे कार्यक्रमों के माध्यम से शिक्षक एवं छात्रों के बीच बेहतर तालमेल बनाकर शिक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण काम किया गया।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के दो वर्ष की उपलब्धियों पर आयोजित आज वर्चुअल मैराथन दौड़ में लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। प्रदेश सरकार की मंशा का ही प्रतिफल है कि प्रदेश की जनता आत्मसम्मान से जीने लगी है। डॉ0 टेकाम ने कहा कि स्कूलों में संविधान की प्रस्तावना का भी वाचन किया जाएगा।

छत्तीसगढ़ी संस्कृति को जीवंत रखने में सरकार की है महत्वपूर्ण भूमिका: श्री भगत
खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति, आर्थिक, सांख्यिकी के साथ संस्कृति मंत्री होने के नाते श्री अमरजीत भगत ने सरगुजिहा गीत के माध्यम से अपने उद्बोधन की शुरूआत की। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार किसान के हितैशी एवं शुभचिंतक है। किसानों को समस्या को समझकर उनकी दशा एवं दिशा सुधारने में लगातार प्रयासरत है। सरकार बनने के महज दो घंटे में ही भूपेश सरकार ने किसानों को कर्ज माफ करके दिखाया। छत्तीसगढ़ी संस्कृति को बनाये रखने के लिए स्थानीय तीज-त्यौहारों सहित संस्कृति के संरक्षण एवं संवर्धन संबंधित विकास कार्य हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री धान खरीदी केन्द्रों में भी जाकर किसानों का हाल-चाल जानते हैं, उनकी समस्याएं सुनते हैं। उन्होंने हाल ही में धान विक्रय से संबंधित किसी भी समस्या के लिए डायल 112 को भी जोड़ा है।

सरकार का आंकलन उसके घोषणा पत्र के अमल से होता हैः प्रभारी मंत्री श्री पटेल
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे उच्च शिक्षा एवं तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास एवं युवा कल्याण तथा जिले के प्रभारी मंत्री श्री उमेश पटेल ने कहा कि हमारी सरकार अपनी 36 घोषणाओं में से 24 घोषणा पूरी कर चुकी है। किसी भी सरकार का आंकलन उसके घोषणापत्र पर अमल करने से ही होता है। उन्होंने कहा कि किसी भी व्यक्ति की मूलभूत आवश्यकताओं पर यदि विकास हो, तो यही सच्चा विकास है। स्वास्थ्य, शिक्षा, पानी, बिजली, राशन जैसे मूलभूत आवश्यकताएं होती हैं, जिसके बेहतरी के लिए प्रदेश सरकार कई योजनाएं बनाकर आमजनों को लाभ दिला रही है।

जिले के स्वास्थ्य सुविधाओं में बढ़ोतरी से आम जनता हो रही लाभान्वित: श्री सिंहदेव
पंचायत एवं ग्रामीण विकास, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री टी.एस.सिंहदेव ने कहा कि जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग के बेहतर समन्वय से अन्य जिलों की तुलना में कोविड-19 के संबंध में बलरामपुर-रामानुजगंज जिले की स्थिति अच्छी है। कोरोना संकटकाल में स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टरों एवं उनकी टीम मिलकर साथ खड़े रहे हैं। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार के दो साल के कार्यकाल में न केवल सरगुजा संभाग बल्कि प्रदेश में बहुत अच्छा विकास का कार्य किया है। उन्होंने कहा कि जिले के स्थानीय जनप्रतिनिधि जिले में बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराने के लिए लगातार प्रयासरत हैं, अपनी मांगों को प्रदेश के मुखिया के समक्ष रखते रहे हैं, सरकार द्वारा हमेशा मांगें सुनी जाती हैं एवं जिले में स्वास्थ्य के क्षेत्र में उल्लेखनीय काम किये जा रहे हैं, जिससे यहां की जनता लाभान्वित हो रही हैं।

शिक्षा एवं स्वास्थ्य के लिए बेहतर प्रयास कर रही प्रदेश सरकार: श्री बृहस्पत सिंह
सरगुजा विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष एवं रामानुजगंज विधायक श्री बृहस्पत सिंह ने उपस्थितों को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश की भूपेश सरकार शिक्षा और स्वास्थ्य के लिए बेहतर प्रयास कर रही है। उन्होंने मुख्यमंत्री श्री बघेल से क्षेत्र की समस्याओं से अवगत कराते हुए मांगें रखी। उन्होंने जिले में एक उद्यानिकी महाविद्यालय, कोचली-डौरा को नया तहसील बनाने, केन्द्रीय सहकारी बैंक की शाखा खोलने सहित अन्य मांगें रखी।

सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे संतु निरामया की सोच वाले हैं प्रदेश के मुखिया बघेल: चिंतामणी महराज
संसदीय सचिव श्री चिंतामणी महराज ने कहा कि प्रदेश के मुखिया श्री बघेल के सोच के अनुरूप जिले सहित प्रदेश के सभी क्षेत्रों में खुशहाली आई है तथा कार्यों को गति मिली है। सरगुजा से लेकर बस्तर तक सभी क्षेत्रों में विकास कार्यों की सौगात दे रहे हैं, जिससे लोगों की जीवनशैली में सकारात्मक बदलाव आ रहा है। उन्होंने मुख्यमंत्री को क्षेत्र की समस्या से अवगत कराते हुए चांदो में महाविद्यालय तथा तहसील बनाने की मांग की।