मोदी स्वच्छता अभियान चला रहे है, और इधर रायपुर में कचरे में फेंकी गई एक्सपायर्ड दवाइया खाने से 25 से अधिक गायों की मौत

मोदी स्वच्छता अभियान चला रहे है, और इधर रायपुर में कचरे में फेंकी गई एक्सपायर्ड दवाइया खाने से 25 से अधिक गायों की मौत

रायपुर (एजेंसी) | घटना रायपुर के डूमरतराई क्षेत्र के थोक दवा बाजार की है काम्प्लेक्स के बाहर खाली प्लॉट में कचरे में फेंकी गई एक्सपायर्ड दवाइयां खाने से शनिवार शाम को 25 से अधिक गायो की मौत हो गई। गायों की मौत का सिलसिला शाम 6 बजे से रात के 9:30 बजे तक चला, जहाँ एक एक करके गाये मौत के मुँह में समा गई। कुछ गाये घटनास्थल पर ही ढेर हो गई, जबकि कुछ गाये मालिकों के घर जाकर।

इतने सारे गायों की मरने की खबर फैलने से क्षेत्र में तनाव की स्थिति पैदा हो गई लोग सड़क पर उतर आये और हंगामा करने लगे। आनन-फानन में पुलिस और वेटनरी डॉक्टरों की टीम पहुंची, जो केवल मृत गायों को देखकर चली गई। ग्रामीणों के गुस्से को देखकर काम्प्लेक्स का गेट बंद कर दिया गया। ग्रामीणों का कहना है की इस तरह एक्सपायर्ड दवाये पहले भी कचरे में फेंकी जाती रही है। मवेशी अक्सर मरते है, लेकिन इतनी बड़ी संख्या में पहली बार मवेशियों की मौत हुई है।




आपको बता दे कि फरिश्ता काम्प्लेक्स के थोक दवा कारोबारियों ने अपना अलग बाजार डूमरतराई में बसाया है। दो साल पहले कुछ कारोबारी वहाँ शिफ्ट भी हुए है। बाजार के पीछे ही बहुत बड़ा खाली मैदान है, जहाँ दवा कारोबारी अपनी  एक्सपायर्ड दवाये डंप कर रहे है। आसपास के ग्रामीणों के मवेशी वहाँ खुले मैदान में घास चरने आते है।

शनिवार को भी एक्सपायर्ड दवाये फेंकी गई थी। बताया जा रहा है कि शाम को घर लौटने के बाद गाये अचानक चक्कर खाकर गिरने लगी। इससे पहले कि लोग कुछ समझ पाते तब तक गायों की मौत हो चुकी थी। थोड़ी ही देर में ये खबर आग की तरह फ़ैल गई। नेशनल हाइवे के पास लगी डेयरी की 7 गाए मर गई। लोगो को समझ आया कि काम्प्लेक्स की ओर से लौटकर आने के बाद ही ये सब हो रहा है। गांव वालो ने जब वहाँ जाकर देखा, 3-4 गाये वहाँ मरी पड़ी है। मृत गायों को कुत्ते और अन्य जानवर नोचकर खा रहे थे।



Leave a Reply