बस्तर में ‘ऑपरेशन प्रहार’ शुरू, नक्सल क्षेत्र में घुसे 1850 जवान; तेलंगाना से महाराष्ट्र बॉर्डर तक घेराबंदी की

बस्तर में ‘ऑपरेशन प्रहार’ शुरू, नक्सल क्षेत्र में घुसे 1850 जवान; तेलंगाना से महाराष्ट्र बॉर्डर तक घेराबंदी की

रायपुर | छत्तीसगढ़ पुलिस के एसटीएफ व डीआरजी और सीआरपीएफ के कोबरा जवानों ने नक्सलियों के खिलाफ इस साल का सबसे बड़ा ऑपरेशन शुरू किया है। एसटीएफ और डीआरजी के 1400 और कोबरा बटालियन के 450 जवानों ने तेलंगाना से महाराष्ट्र बॉर्डर तक घेराबंदी कर एक साथ सर्चिंग शुरू की है। किस्टाराम और पामेड़ के बीच का क्षेत्र नक्सलियों का कोर एरिया माना जाता है। इसके अलावा अबूझमाड़ में जवान ऑपरेशन चला रहे हैं। इसे ऑपरेशन प्रहार नाम दिया गया है।

24 घंटे से भी ज्यादा समय से जारी ऑपरेशन

यह इस साल का सबसे बड़ा अभियान है, जिसमें इतनी बड़ी संख्या में नक्सलियों के खिलाफ सीधी लड़ाई के लिए जवान जंगल में घुसे हैं। डीजीपी डीएम अवस्थी ने बताया कि 18 फरवरी की शाम से यह ऑपरेशन शुरू किया गया है, जो 24 घंटे से भी ज्यादा समय से जारी है। अब तक जो जानकारी मिली है, उसके मुताबिक सुकमा के टोंडामरका इलाके में एसटीएफ व डीआरजी के साथ हुई मुठभेड़ में एक नक्सली का शव और हथियार बरामद हुआ है। चार नक्सलियों के गंभीर रूप से घायल होने की सूचना है। एसटीएफ के एक जवान को भी गोली लगी है। नारायणपुर के पुसपाल इलाके में इकुल गांव के पास एसटीएफ व डीआरजी के साथ अन्य मुठभेड़ में एक माओवादी का शव बरामद हुआ है।  कुछ माओवादियों के घायल होने की सूचना है। डीजीपी अवस्थी ने बताया कि सुरक्षाबलों द्वारा नक्सलियों के सबसे मजबूत इलाके में जबरदस्त अभियान चलाया जा रहा है, जो अभी जारी है।

महीनेभर से चल रही थी तैयारी

नक्सलियों के खिलाफ बड़े ऑपरेशन की महीनेभर से तैयारी चल रही थी। डीजीपी अवस्थी ने पहले बस्तर के सभी एसपी व सीआरपीएफ के अधिकारियों की बैठक ली थी। इसके बाद सीआरपीएफ के अफसर भी आए थे। उसी समय ही एसटीएफ व कोबरा के साथ मिलकर ऑपरेशन की रणनीति बनी थी। एंटी नक्सल ऑपरेशन से जुड़े अफसरों के मुताबिक बड़ा ऑपरेशन लांच करने से पहले पर्याप्त सूचनाएं जुटाई गई हैं। इसके बाद सुरक्षा बलों को कोर एरिया में रवाना किया गया है। अफसरों ने बताया कि रणनीति के तहत नक्सलियों के गढ़ पर सीधे हमला किया गया है। नक्सलियों को भागने का मौका न मिले, इसलिए तेलंगाना से लेकर महाराष्ट्र बॉर्डर तक अभियान शुरू किया गया है।