मुख्यमंत्री ने की घोषणा : कोरबा मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल को स्व. श्री प्यारेलाल कंवर के नाम पर जाना जायेगा

मुख्यमंत्री ने की घोषणा : कोरबा मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल को स्व. श्री प्यारेलाल कंवर के नाम पर जाना जायेगा

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज शाम अपने निवास कार्यालय में कोरबा जिले से आए नागरिकों की मांग पर कोरबा के मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल का नामकरण स्व. श्री प्यारेलाल कंवर के नाम से करने की घोषणा की। स्व. श्री कंवर संयुक्त मध्यप्रदेश में उप मुख्यमंत्री थे। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने इसके पहले कोरबा मेडिकल कालेज का नामकरण स्व. श्री बिसाहू दास महंत के नाम पर करने की घोषणा की थी और अब मेडिकल कालेज हॉस्पिटल का नामकरण स्व.श्री कंवर के नाम पर होगा।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने इस दौरान क्षेत्रवासियों की मांग पर तत्काल आवश्यक पहल करते हुए कोरबा जिले के कटघोरा में एक अतिरिक्त कलेक्टर तथा एक अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक की शीघ्र से शीघ्र पदस्थापना करने की घोषणा भी की।
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल से आज शाम राजधानी स्थित उनके निवास कार्यालय में कोरबा जिले के विभिन्न क्षेत्रों और समाजों से लोगों ने सौजन्य मुलाकात की। इस दौरान कोरबा जिले के नागरिकों ने सरकार द्वारा क्षेत्र के विकास के लिए चलाए जा रहे विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं की सराहना की और इसके लिए मुख्यमंत्री श्री बघेल के प्रति आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर क्षेत्र के विधायक श्री पुरूषोत्तम कंवर, विधायक श्री मोहित केरकेट्टा तथा विधायक श्री धनेन्द्र साहू, विधायक श्री बृहस्पत सिंह, विधायक श्री पारसनाथ राजवाड़े, विधायक डॉ. विनय जायसवाल, विधायक डॉ. प्रीतम राम तथा पूर्व विधायक कटघोरा श्री बोधराम कंवर, पूर्व विधायक रामपुर श्री श्यामलाल कंवर, अध्यक्ष जिला पंचायत कोरबा श्रीमती शिवकला कंवर, सभापति जिला पंचायत कोरबा श्री गणराज सिंह कंवर सहित बड़ी संख्या में नागरिक उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि कोरबा एक आदिवासी बाहुल्य जिला है। यहां हर क्षेत्र और  समाज के लोगों के उत्थान के लिए हमारी सरकार द्वारा अनेक योजनाएं चलाई जा रही हैं। उन्होंने इस दौरान यहां के लोगों की जनभावना का सम्मान करते हुए क्षेत्रवासियों की मांग पर कोरबा मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल का नामकरण स्व. प्यारेलाल कंवर के नाम से और कटघोरा में एक अतिरिक्त कलेक्टर तथा एक अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक की शीघ्र पदस्थापना करने की घोषणा की। इस दौरान प्रतिनिधि मंडल में शामिल पंचायत प्रतिनिधियों ने हाल ही में राज्य सरकार द्वारा जिला पंचायत, जनपद पंचायत एवं ग्राम पंचायतों के पदाधिकारियों के मानदेय में वृद्धि और जिला पंचायत विकास निधि तथा जनपद पंचायत विकास निधि योजना के प्रावधान के लिए आभार जताया।

उल्लेखनीय है कि बजट में जिला पंचायत अध्यक्षों का मानदेय 15 हजार रूपये से बढ़ाकर 25 हजार, जिला पंचायत उपाध्यक्षों का मानदेय 10 हजार से बढ़ाकर 15 हजार रूपए और जिला पंचायत सदस्यों का मानदेय 6 हजार रूपए से बढ़ाकर 10 हजार रूपए प्रतिमाह किया गया है। इसी प्रकार जनपद पंचायत अध्यक्षों का मानदेय 6 हजार से बढ़ाकर 10 हजार रूपए, जनपद पंचायत उपाध्यक्षों का मानदेय 4 हजार से बढ़ाकर 6 हजार रूपए एवं जनपद पंचायत सदस्यों का मानदेय 1500 रूपए से बढ़ाकर 5 हजार रूपए तथा सरपंचों का भत्ता 2 हजार से बढ़ाकर 4 हजार रूपए एवं पंचों का भत्ता 200 रूपए से बढ़ाकर 500 रूपए प्रतिमाह किया गया है।

इसी प्रकार बजट में जिला पंचायत अध्यक्षों के लिए 15 लाख रूपए, उपाध्यक्षों हेतु 10 लाख रूपए एवं सदस्यों हेतु 4 लाख रूपए प्रतिवर्ष के मान से जिला पंचायत विकास निधि योजना में 22 करोड़ रूपए का प्रावधान किया गया है। बजट में जनपद पंचायत अध्यक्षों हेतु 5 लाख रूपए, उपाध्यक्षों हेतु 3 लाख रूपए एवं सदस्यों हेतु 2 लाख रूपए प्रतिवर्ष के मान से जनपद पंचायत विकास निधि योजना में 66 करोड़ रूपए का प्रावधान किया गया है। इस अवसर पर अध्यक्ष सातगढ़ कंवर समाज श्री छत्रपाल सिंह कंवर, श्री चम्पालाल सिंह कंवर, श्री शिवकुमार, अध्यक्ष जनपद पंचायत कोरबा श्रीमती हरेश कंवर, अध्यक्ष जनपद पंचायत कटघोरा श्रीमती लता कंवर तथा श्री प्रेमलाल कंवर, अध्यक्ष अनुसूचित जनजाति संघ गेवरा परिक्षेत्र श्री इन्द्रपाल सिंह, श्री विजयभूषण सिंह कंवर, श्री महिपाल सिंह, श्री विजय प्रभात, श्री रामकुमार, श्री गोविन्द कंवर, श्री चमरा सिंह, श्री नवल सिंह, श्री बचनसाय कोर्राम, श्री कार्तिक राम उरांव, श्री चन्द्रभूषण सिंह विध्यराज, श्रीमती मनोरा लकड़ा, श्री शत्रुहन सिंह राज, श्री चन्द्रभूषण कंवर, श्री लाल सिंह कंवर आदि उपस्थित थे।