चक्रवाती तूफान की वजह से छत्तीसगढ़ में हो रही है बारिश, ओडिशा में बाढ़ के हालत

चक्रवाती तूफान की वजह से छत्तीसगढ़ में हो रही है बारिश, ओडिशा में बाढ़ के हालत

रायपुर (एजेंसी) | राजधानी में गुरुवार को दोपहर तेज धूप की वजह से गर्मी और उमस दोनों बढ़ गई थी। इससे बेचैनी भी महसूस हुई, लेकिन शाम को बादल घिरे और करीब शाम 6 बजे तेज हवा के साथ बारिश शुरू हुई। 15 मिनट की मूसलाधार बारिश से न केवल शहर तरबतर हो गया, बल्कि रात का मौसम ही बदल गया। मौसम विज्ञानियों ने शुक्रवार को भी गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ने की संभावना जताई थी, लेकिन तड़के तेज बारिश ने एक बार शहर को तरबतर कर दिया। शाम तक फिर हल्की बारिश की संभावना है।

दक्षिण ओडिशा और आंध्रप्रदेश के तटीय क्षेत्र के आसपास ऊपरी हवा में चक्रवात बना हुआ है। यह करीब 60 से 80 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तट को पार कर उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ेगा और अवदाब में बदल जाएगा। इसी सिस्टम के कारण समुद्र से काफी नमी आ रही है। इसी सिस्टम के चलते छत्तीसगढ़ के कई इलाकों में रुक-रुककर बारिश हो रही है।




चक्रवाती तूफान डे शुक्रवार सुबह ओडिशा में गोपालपुर के पास समुद्र तट पार कर गया। इसकी वजह से ओडिशा के आठ जिलों में मूसलाधार बारिश के साथ तेज हवाएं चल रही हैं। जिससे यहां बाढ़ जैसे हालात हैं। गजपति, गंजाम, कोरधा, नयागढ़ और पुरी जिले सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं।

मौसम विभाग ने कहा- कमजोर पड़ रहा तूफान

भुवनेश्वर मौसम विभाग के डायरेक्टर एचआर बिस्वास ने बताया- बंगाल की खाड़ी से उठा यह तूफान 23 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से पश्चिम-पश्चिमोत्तर की तरफ बढ़ा। इसके बाद 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गोपालपुर की तरफ बढ़ा। इस वजह से राज्य के गजपति, गंजाम, पुरी, रायगडा, कालाहांडी, कोरापुट, मलकानगिरि और नवरंगपुर जिलों में भारी से बहुत भारी बारिश हो रही है। उन्होंने कहा कि यह पश्चिम-पश्चिमोत्तर की तरफ बढ़ते हुए लगातार कमजोर पड़ रहा है।

राज्य के रायगडा, कालाहांडी, कोरापुट, बलांगीर, बरगढ़, झारसुगुड़ा, संबलपुर, सुंदरगढ़, क्योंझर, नवरंगपुर और मयूरभंज जिलों में शनिवार तक भारी से बहुत भारी बारिश होने का अनुमान है। मौसम विभाग ने इस दौरान दक्षिण ओडिशा के तटवर्ती इलाकों में कुछ घंटों के लिए हवा की रफ्तार 60-70 किलोमीटर प्रति घंटे होने की चेतावनी जारी की है। इससे पहले गुरुवार को मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने आपात बैठक बुलाकर अफसरों को आगाह किया। साथ ही पर्याप्त राहत सामग्री जुटाकर रखने को कहा है।



Leave a Reply