मुख्यमंत्रीं ने लाठीचार्ज घटना की मजिस्ट्रियल जाँच के दिए आदेश, रिपोर्ट 3 महीने बाद

मुख्यमंत्रीं ने लाठीचार्ज घटना की मजिस्ट्रियल जाँच के दिए आदेश, रिपोर्ट 3 महीने बाद

रायपुर (एजेंसी) | भाजपा मंत्री अमर अग्रवाल के घर में कचरा फेंकने के बाद कांग्रेसियों के ऊपर कांग्रेस भवन में हुए लाठीचार्ज की मजिस्ट्रियल जांच होगी ताकि लोगों के सामने सच आ सके। ये आदेश बुधवार को मुख्यमंत्री रमन सिंह ने शिवपुर चरचा में ‘अटल विकास यात्रा’ के दौरान दिए। मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह ने कहा कि बिलासपुर में मंत्री अमर अग्रवाल के बंगले में कचरा फेंकने और उसके बाद कांग्रेसियों पर लाठीचार्ज निंदनीय है। दोनों ही पक्षों द्वारा सही काम नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि हमारा छत्तीसगढ़ शांति प्रिय प्रदेश है और इस तरह की घटना ठीक नहीं।

दूसरी ओर कांग्रेस द्वारा लाठीचार्ज के विरोध में प्रदेश में कई जगह बुधवार को विरोध प्रदर्शन किया गया। कई जगह कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी भी हुई। पीसीसी चीफ भूपेश बघेल ने इस मामले की पूरी जानकारी दिल्ली जाकर पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी को दी है। दिल्ली से बघेल प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया के साथ रायपुर आए आैर सीधे बिलासपुर में घायलों से मुलाकात करने रवाना हो गए।

जगदलपुर को छोड़ पूरे बस्तर में कांग्रेसियों ने सीएम का पुतला फूंका। जगदलपुर में कांग्रेस के संभागीय कार्यालय में पुलिस घुस गई और कार्यकर्ताओं से पुतला छीन लिया। पुलिस दोपहर 3 बजे लाठियां लेकर कांग्रेस भवन में घुसी और पहले सबको जबरन पकड़कर गिरफ्तार किया तथा कुर्सी दरी उठा-उठाकर तलाशी ली। इसके बाद सारे जवान वहीं कुर्सी लगाकर बैठ गए। पुलिस लगभग 45 मिनट भवन में रही।

ये सब कांग्रेसियो की सोची समझी रणनीति है 

नगरीय प्रशासन मंत्री अमर अग्रवाल ने सफाई देते हुए कहा, ” मेरे घर में कचरा-पत्थर फेंकना कांग्रेसियों की सोची-समझी रणनीति का हिस्सा है। आम नागरिक के घर पर कचरा फेंकने पर भी पुलिस कार्रवाई करती है। जांच के बाद सब साफ हो जाएगा। जहां तक मेरे बयान की बात है, मैंने कहा था- इतने सालों में कांग्रेसियों ने जो कचरा जमा किया, अब वो हम साफ करा रहे हैं।”

 

Leave a Reply