मुख्यमंत्री ने राईस मिलरों को कस्टम मिलिंग के लिए प्रोत्साहन राशि को बढ़ाकर 120 रूपए प्रति क्विंटल करने का किया ऐलान

मुख्यमंत्री ने राईस मिलरों को कस्टम मिलिंग के लिए प्रोत्साहन राशि को बढ़ाकर 120 रूपए प्रति क्विंटल करने का किया ऐलान

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज शाम छत्तीसगढ़ प्रदेश राइस मिलर्स एसोसिएशन के पदाधिकारियों और खाद्य विभाग के अधिकारियों की संयुक्त बैठक में राज्य मंे धान की कस्टम मिलिंग की तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने राज्य में खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी व्यवस्था के तहत सुव्यवस्थित कस्टम मिलिंग के लिए राइस मिलरों को प्रोत्साहन राशि को बढ़ाकर अब 120 रूपए प्रति क्विंटल किए जाने का ऐलान किया। श्री बघेल ने आज अपने निवास कार्यालय में आयोजित बैठक में राइस मिलर एसोसिएशन की विभिन्न समस्याओं पर भी चर्चा की और उनके निराकरण के लिए दिशा-निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने बैठक में बताया कि किसानों के पुराने जूट बारदाने का मूल्य 18 रूपए प्रति नग से बढ़ाकर 25 रूपए कर दिया गया है। इस आशय के आदेश खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग द्वारा आज जारी किए जा चुके हैं। उन्होंने राइस मिलरों से कहा कि समितियों से धान का उठाव और मिलिंग कार्य में गति लाते हुए चावल जमा करने के कार्य को समयावधि में पूरा कर लिया जाए और बारदानों की आपूर्ति पर राईस मिलर्स भी विशेष ध्यान रखें।

मुख्यमंत्री द्वारा कस्टम मिलिंग के लिए प्रोत्साहन राशि बढ़ाए जाने के ऐलान पर छत्तीसगढ़ प्रदेश राईस मिलर्स एसोशिएशन ने इसका स्वागत करते हुए उनके प्रति आभार व्यक्त किया गया। बैठक में मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव श्री सुब्रत साहू, सचिव खाद्य श्री टोपेश्वर वर्मा, मार्कफेड की प्रबंध संचालक श्रीमती किरण कौशल सहित राइस मिलर एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री कैलाश रुंगटा, महासचिव श्री प्रमोद अग्रवाल, सलाहकार सचिव श्री मोहनलाल अग्रवाल, श्री पारस चोपड़ा, श्री रोशन चंद्राकर, श्री राजेन्द्र लंुकड, श्री दिलीप अग्रवाल सहित एसोसिएशन के अनेक पदाधिकारी एवं सदस्य उपस्थित थे।