रायपुर : लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी एवं ग्रामोद्योग मंत्री बाबा गुरु घासीदास जयंती और गुरुपर्व कार्यक्रम में हुए शामिल

रायपुर : लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी एवं ग्रामोद्योग मंत्री बाबा गुरु घासीदास जयंती और गुरुपर्व कार्यक्रम में हुए शामिल

लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी एवं ग्रामोद्योग मंत्री गुरु रुद्रकुमार आज बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के सिमगा विकासखंड के ग्राम तेंदूभाठा (खडुवा) में आयोजित बाबा गुरु घासीदास जी की 264वीं जयंती एवं गुरु पर्व कार्यक्रम में शामिल हुए। इस अवसर पर संत समाज के लोगों को संबोधित करते हुए मंत्री गुरु रूद्रकुमार ने सत्य-अहिंसा के मार्ग पर चलने की बात कही।

उन्होंने कहा कि बाबा गुरु घासीदास के बताए मार्गों और आदर्शों पर चलकर जीवन को सफल बनाया जा सकता है। इस मौके पर उन्होंने ग्राम तेंदुभाटा स्थित बाबा गुरु घासीदास जी के गुरुद्वारा में पूजा अर्चना कर जैतखाम पर पालो चढ़ा कर समस्त मानव समाज के उन्नति और खुशहाली के लिए कामना की। उन्होंने सत समाज और ग्रामवासियों को बाबा गुरु घासीदास जी की जयंती पर्व की शुभकामनाएं और बधाई दी।

मंत्री गुरू रूद्रकुमार ने कहा कि सतनाम पंथ के प्रवर्तक संत श्री शिरोमणि बाबा गुरु घासीदास जी एक सच्चे पथ प्रदर्शक और समाज सुधारक थे। उन्होंने समाज में व्याप्त कुरीतियों, छुआछूत का बहिष्कार कर, अन्य जीवों के प्रति करुणा भाव, प्रेम और सदभाव रखने का संदेश दिया। उनका संपूर्ण जीवन मानव कल्याण के लिए समर्पित रहा है। उनके बताए मार्ग पर चलकर और उनके आदर्शों को अपने जीवन में आत्मसात करने की बात कही।

उन्होंने बाबा गुरु घासीदास जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए लोगों से अपील की कि श्रद्धा, सत्य और अहिंसा के साथ जीवन जीना चाहिए और सभी को अपने जीवन में अपने कर्मों को श्वेत पालों की तरह साफ, सुंदर, स्वच्छ और बेदाग रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि बाबा गुरु घासीदास जी द्वारा दिए गए संदेश मनखे-मनखे एक समान आज और भी ज्यादा प्रासंगिक हो गया है।

कार्यक्रम के दौरान मंत्री गुरु रुद्रकुमार को सत समाज और ग्राम तेंदूभाठावासियों ने अपनी समस्याओं से अवगत कराया। लोगों की मांग पर उन्होंने ग्राम तेंदूभाठा (खडुवा) में सतनाम भवन निर्माण एवं बोर खनन, सी.सी. रोड़ निर्माण और पानी टंकी निर्माण व पाइपलाइन का विस्तार कर घर-घर तक मुफ्त में नल कनेक्शन देने की घोषणा की। इस अवसर पर आयोजनकर्ता श्री लीलू यदु, सरपंच श्री बिसाहू राम साहू, राजमहंत श्री जगमोहन मार्कण्डेय सहित समस्त सत समाज व बड़ी संख्या में ग्रामवासी उपस्थित थे।